भारत, यूरोपीय संघ (Europe Union) की तरह, जल्द ही एक (common charger policy)सामान्य चार्जर नीति पर चलेगा।

Common Charger Policy: आजकल इलेक्ट्रॉनिक आइटम्स का बोल बाला है वो चाहे मोबाइल,टैबलेट या लैपटॉप हो। ज्यादा से ज्यादा लोग मोबाइल चार्जर और लैपटॉप। इन सभी उपकरणों के लिए अलग-अलग प्रकार के चार्जर भी मार्केट में उपलब्ध है। सबसे आम डेटा केबल के लिए मुख्य रूप से तीन प्रकार के पोर्ट होते हैं। Android मॉडल के लिए Micro USB और TYPE-C पोर्ट और Apple मोबाइल फोन के लिए लाइटनिंग पोर्ट इत्यादि।

USB Type C चार्जर क्या होता है?

एक USB Type C चार्जर एक उद्योग-मानक कनेक्टर है जिसका उपयोग डिस्प्ले, डेटा ट्रांसमिशन और चार्जिंग अनुप्रयोगों की विस्तृत श्रृंखला की आवश्यकता को पूरा करने के लिए किया जाता है। चाहे आपके पास लैपटॉप जैसे बड़े उपकरण हों या फ़ोन जैसे छोटे उपकरण हों, आप एक ही केबल का उपयोग करके उनके बीच डेटा चार्ज और स्थानांतरित कर सकते हैं।

India और Europe Union (EU) के सिंगल चार्जर पोर्ट के लिए क्या सहमति बनी है.

कुछ महीने पहले Europe Union ने 2024 तक मोबाइल फोन, टैबलेट और कैमरों के लिए सिंगल चार्जिंग पोर्ट का उपयोग करना अनिवार्य कर दिया था।

सरकारी अधिकारियों ने बुधवार को कहा कि मोबाइल डिवाइस निर्माता और भारत में प्रौद्योगिकी कंपनियों का प्रतिनिधित्व करने वाले संघ स्मार्टफोन, टैबलेट और लैपटॉप सहित इलेक्ट्रॉनिक उत्पादों के लिए मानक चार्जिंग पोर्ट के रूप में USB – Type C को अपनाने पर सहमत हुए हैं।

बैठक के दौरान, स्मार्टफोन, टैबलेट और लैपटॉप जैसे इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के लिए चार्जिंग पोर्ट के रूप में यूएसबी टाइप-सी को अपनाने पर हितधारकों के बीच व्यापक सहमति बनी। इसके अलावा, यह विचार-विमर्श किया गया था कि फीचर फोन के लिए एक अलग चार्जिंग पोर्ट अपनाया जा सकता है। ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के अनुसार Europe Union ने 2024 के mid तक wired charging के लिए USB-C पोर्ट से लैस होने के लिए Apple के iPhone सहित smartphones की जरूरत वाले अनंतिम कानून लागू किए।

उपभोक्ता मामलों के सचिव रोहित कुमार सिंह ने बुधवार को कहा कि भारत स्मार्ट उपकरणों के लिए एक सामान्य चार्जिंग पोर्ट के रूप में यूएसबी-सी प्रकार को अपनाएगा

एक USB Type C charger से क्या फायदा मिलेगा.

ASSOCHAM-EY की रिपोर्ट, इलेक्ट्रॉनिक वेस्ट मैनेजमेंट इन इंडिया के अनुसार सन 2021 में भारत में 5 Million Ton E Waste( ई-कचरा) उत्पन्न होने का अनुमान है जो केवल चीन और अमेरिका से पीछे है। यदि देखा जाए तो single port चार्जर का use करने पर E waste कम होगा। और प्रत्येक एंड्रॉयड या लैपटॉप के लिए सिर्फ एक चार्जर से काम चलेगा।
अलग अलग चार्जर की जरूरत नहीं पड़ेगी।

common charger policy: सामान्य चार्जर consumers की सुविधा में सुधार करेगा, नवाचार को बनाए रखते हुए चार्जर के उत्पादन और निपटान से जुड़े पर्यावरण footprint को कम करेगा।

Leave a Comment