Travel

भारत के 10 प्रसिद्ध शीतकालीन ट्रेक जो आश्चर्यजनक दृश्यों का वादा करते हैं

10 Famous Winter Treks In India That Promise Stunning Views

अक्सर आप गर्मी में घूमने तो जाते है पहाड़ों में लेकिन आपको बर्फ की कमी तो महसूस होती होगी की पैरो के निचे बर्फ हो और आसमान साफ हो, भीड़ काम हो तो मज़ा आ जाये। दोस्तों आपके लिए आज हम ले कर आए है एक ब्लॉग जो आधारित है – भारत के 10 प्रसिद्ध शीतकालीन ट्रेक पर। तो तैयार हो जाइए खूबसूरत पहाड़ पर जाने के लिए।

भारत के 10 प्रसिद्ध शीतकालीन ट्रेक

1. त्रिउंड ट्रेक(Triund trek), Himachal Pradesh

भारत के 10 प्रसिद्ध शीतकालीन ट्रेक में से त्रिउंड ट्रेक एक बहुत ही खूबसूरत और कम दिन के लिए ट्रेक है, जिसे वीकेंड में बहुत ही आसानी से किया जा सकता है। वैसे तो गर्मी में बहुत भीड़ रहती है लेकिन ठंड में कम रहती है और आपको यहां ठंड में 10 – 18 डिग्री टेम्प्रेचर मिलेगा। ये ट्रेक McLeod Ganj से शुरू होती है ये करीब 8 किलोमीटर का ट्रेक है. यहां आपको खाने के लिए सभी तरह फ़ूड मिलेंगे। 2 दिन और 3 रात के लिए ये एक शार्ट ट्रेक है। त्रिउंड ट्रेक फोटोग्राफी के बहुत ही प्रसिद्ध है।

2. डोडीताल ट्रेक(Dodital Trek), Uttarakhand

ये तो आप जानते होंगे की डोडीताल भगवान गणेश जी का जन्मस्थान है , डोडीताल नाम यहाँ पर पाए जाने वाले झील डोडी के नाम पर पड़ा। डोडीताल पुरे साल एक खूबसूरत ट्रेक में गिना जाता है लेकिन सर्दियों में ये और भी खूबसूरत हो जाता है बर्फ से ढाका हुए अलग ही नजारा होता है। डोडीताल गढ़वाल हिमालय में स्थित है। एक तरफ बंदरपुंछ और स्वर्गारोहिणी पर्वतमाला है और दूसरी तरफ दरवाजा है। चोटियों के नज़ारों को देखने के लिए डोडीताल से दरवा दर्रा (4,150 मीटर) तक चढ़ेंगे। ढलान पर जाते समय, एक प्राकृतिक पानी के कुंड में डुबकी लगाकर आराम करें और अलाव जलाकर रात का भोजन करें।

3. दयारा बुग्याल ट्रेक (Dayara Bugyal), Uttarakhand

दोस्तों इस ट्रेक की खास बात ये है की जहाँ तक आपकी नजर जाती है आप देखंगे की बर्फ से ढके घास के मैदान। ये ट्रेक केवल आठ महीनों (मानसून के महीनों को छोड़कर) के लिए सुलभ है, दयारा बुग्याल ट्रेक आसान नहीं है क्युकी खुले मैदान ये नहीं पता होता है की रास्ता कहा पर है, लेकिन आपको बहुत मज़ा आएगा। माउंट श्रीकांत, द्रौपदी का डंडा और माउंट जौनली, 12,000 फीट पर खड़े होकर, आप माउंट बंदरपूंछ और ब्लैक पीक को 21,000 फीट की ऊंचाई पर देख सकते हैं।

4. मार्खा वैली ट्रेक(Markha Valley), Ladakh

मार्खा घाटी, लेह के करीब होने के कारण ये घाटी लद्दाख के सबसे प्रसिद्ध ग्रीष्मकालीन ट्रेक में से एक है। इस ट्रेक पर आपको बहुत ही गजब का नजारा देखने को मिलेगा जैसे मायावी हिम तेंदुए और भी बहुत कुछ, मार्खा वैली ट्रेक जनवरी और फरवरी के बीच शीतकालीन ट्रेक का सकते हैं। ये ट्रेक आपको सिंधु नदी, बौद्ध मठों, पहाड़ी गांवों, विलो-लाइन वाले ज़िंगचेन कण्ठ और हेमिस नेशनल पार्क के पार ले जाता है। मार्खा घाटी से निचे आते समय बहुत से प्राकर्तिक रचनाएं देखने को मिलेगा।

5. कुआरी दर्रा ट्रेक (Kuari Pass), Uttarakhand

हिमालय के लोकप्रिय दृश्य में से एक है कुआरी दर्रा। यह सर्दियों के ट्रेक के लिए एक बढ़िया विकल्प है। कुआरी दर्रा बहुत सा भाग सर्दियों में बर्फ में गहरे दब जाते है। जब आप दक्षिण की ओर बढ़ते हैं तो वे पूर्व में त्रिशूल से लेकर केदारनाथ, चौखंभा, नीलकंठ, कामेट, नंदा देवी और द्रोणागिरी की चोटियों तक होते हैं।

6. अली बेदनी बुग्याल ट्रेक(Ali Bedni Bugyal), Uttarakhand

उत्तराखंड के ऊंचाई वाले घास के मैदानों में कैंपिंग पर प्रतिबंध के साथ, प्रसिद्ध रूपकुंड ट्रेक बंद है। बेदनी बुग्याल एक बेहतरीन वैकल्पिक मार्ग है। माउंट त्रिशूल और माउंट नंदा घुंटी देखने के लिए आएं और इस ट्रेक पर एक सुंदर सूर्यास्त के लिए रुकें। 3,562 मीटर पर उच्चतम बिंदु तक पहुंचने के लिए, आप घने ओक और रोडोडेंड्रोन जंगलों से गुजरेंगे। फिर भी कुछ कठिन और चुनौतीपूर्ण वर्गों के साथ, राह शुरुआती लोगों के लिए एकदम सही है। ट्रेक पूरे साल खुला रहता है (जून से सितंबर तक मानसून के महीनों को छोड़कर), लेकिन सर्दियां इस क्षेत्र में एक अलग तरह की सुंदरता लाती हैं।

7. ब्रह्मताल ट्रेक(Brahmatal), Uttarakhand

आप यहां पूरे साल ट्रेक कर सकते हैं, लेकिन सर्दियों (दिसंबर से मार्च) आते हैं, ब्रह्मताल ट्रेक आपको एक जमी हुई अल्पाइन झील तक ले जाता है – और आप वहां कुछ घंटे नहीं बिताएंगे। यदि मौसम स्थिर रहता है और भारी हिमपात नहीं होता है, तो आप झील के किनारे भी डेरा डाल सकते हैं। हाथ में चाय का प्याला, राजसी माउंट त्रिशूल और माउंट नंदघुंटी को प्रतिबिंबित करने वाली जमी हुई बर्फ की सुंदरता की प्रशंसा करें। जैसे ही आप उतरते हैं, बेकलताल झील भी है जो देखने लायक है और आमतौर पर सर्दियों में भी जम जाती है। इस ट्रेक पर प्रत्येक कैंपसाइट जंगलों और झीलों के अद्वितीय दृश्य प्रस्तुत करता है। सबसे अच्छी बात यह है कि आपको इन विचारों को आत्मसात करने के लिए बहुत अधिक मेहनत करने की आवश्यकता नहीं है। ट्रेक एक रिज प्रदान करता है जिसे आप शिखर तक पहुंचने के लिए साथ चल सकते हैं।

8. केदारकांठा ट्रेक(Kedarkantha), Uttarakhand

केदारकांठा उत्तराखंड के गोविंद पाशु विहार राष्ट्रीय उद्यान में छह दिवसीय ट्रेक है। चूंकि केदारकांठा एक अकेला पर्वत है, इसलिए शिखर तक पहुंचने के लिए कई मार्ग हैं, प्रत्येक अपने तरीके से अद्वितीय है। आप लोकप्रिय मार्ग या शांत मार्ग चुन सकते हैं। ट्रेक साल भर सुलभ है, लेकिन यदि आप एक चुनौती के लिए तैयार हैं तो दिसंबर और जनवरी के सर्दियों के महीनों में जाएं। चढ़ाई कठिन और ठंड में खड़ी है, लेकिन समान रूप से फायदेमंद है। शिखर सीधे आधार शिविर से दिखाई देता है और जैसे ही आप बर्फ से ढके घास के मैदानों और जंगलों से ऊपर चढ़ते हैं, हिमालय दृष्टि में आ जाता है। कुछ सबसे नाटकीय सूर्यास्तों के साथ, ट्रेक आपको स्थानीय संस्कृति और भोजन का स्वाद भी देता है, क्योंकि आप अपनी पहली और आखिरी रात गैछवांगांव में होमस्टे में बिताएंगे।

9. संदकफू फलूटी(Sandakphu Phalut), West Bengal

संदकफू फलूटी का ट्रेक आप को सिंगाली रिज यह ट्रेक आपको सिंगाली रिज तक ले जाता है, वह सीमा जो भारत को नेपाल से अलग करती है। यह माउंट एवरेस्ट, कंचनजंगा, ल्होत्से और मकालू सहित 8,000 मीटर से ऊपर की कुछ सबसे प्रसिद्ध चोटियों के दृश्य प्रस्तुत करता है। कंचनजंगा के अलावा, आप इसके आकार के कारण प्रसिद्ध चोटियों को स्लीपिंग बुद्धा भी देख सकते हैं। जबकि एवरेस्ट क्लस्टर केवल ट्रेक के चौथे दिन दिखाई देता है, स्लीपिंग बुद्धा चोटियाँ पहले दिन से ही दिखाई देती हैं। तो, आपने शुरू से अंत तक भव्य दृश्यों का वादा किया है। मई से अगस्त को छोड़कर, ट्रेक साल के आठ महीनों के लिए खुला रहता है, लेकिन हम पर भरोसा करें- आप बर्फ से ढकी शक्तिशाली चोटियों को देखना चाहेंगे।

10. देवरियाताल चंद्रशिला ट्रेक(Deoriatal Chandrashila), Uttarakhand

चंद्रशिला शिखर बहुत ही अत्यंत सुन्दर दृश्य प्रस्तुत करता है। इसके बाईं ओर आपको मिलेगा गंगोत्री श्रेणी, माउंट थलयसागर, केदारनाथ और केदार गुंबद, मंदानी पर्वत और जान्हुकुट हैं, दाईं ओर हाथी पर्वत, गौरी पर्वत और दूनागिरी हैं। चंद्रशिला शिखर की पौराणिक कथाएं में उल्लेख है, बोला जाता है की भगवान श्री राम ने लंकापति रावन का वध करने के बाद भगवान शिव की आराधना की थी।
लेकिन चंद्रशिला शिखर दिसंबर में बहुत ही सुन्दर और बर्फ से ढाका हुआ पर्वत मिलेगा आपको। तुंगनाथ से 8 किलोमीटर की दुरी पर है ये पर्वत, ट्रेक के साथ आपको यहाँ का नजारा बहुत ही पसंद आएगा।

दोस्तों मैं आशा करता हूँ आपको ये आर्टिकल “भारत के 10 प्रसिद्ध शीतकालीन ट्रेक जो आश्चर्यजनक दृश्यों का वादा करते हैं” पसंद आया होगा अगर आपके मन में कोई सुझाव या कुछ संसोधन है तो कृपया हमें कमेंट करके जरूर बताये। और भी ऐसे ब्लॉग पढ़ने के लिए हमें सब्सक्राइब करे। धन्यवाद

और भी पढ़े हिंदी में –

25 दिसंबर का दिन: दुनियाभर में मनाया जा रहा है क्रिसमस का त्योहार, जानिए इस दिन के इतिहास के बारे…
-आर्ट्स स्ट्रीम में 12वीं के बाद सबसे अच्छे कोर्स कौन से हैं?
-10वीं (हाई स्कूल) पास करने के बाद आप क्या क्या कर सकते है?
-क्या आप जानते है की WhatsApp से पैसे कैसे कमाए जा सकते है?
-क्या आपको पता है की Twitter से पैसे कैसे कमाए जा सकता है?
-खतरनाक जीका वायरस के बारे में जानिए क्यों यह वायरस घातक है.
-Himachal Trek
-क्या आप ऑटोकैड के बारे में जानते है?(Do you know about AutoCAD)
-भारत में शीर्ष 10 सबसे कठिन परीक्षा(Top 10 toughest examination in India)

Related posts

अगर आप हिमाचल घूमना चाहते है तो उससे पहले ये ब्लॉग जरूर पढ़े

Pradeep Kumar

भारत में 10 सांस्कृतिक स्थलों की यात्रा अवश्य करें

Pradeep Kumar

दिल्ली में घूमने के 10 प्रमुख स्थान Top 10 Historical Places in Delhi

Amit Yadav

Leave a Comment