पीरियड एक पहेली क्यों?

मासिक चक्र जीवन के पूरे चक्र का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। हम खून बहाते हैं क्योंकि हम बना सकते हैं। हमारे पास जीवन देने की सुंदर शक्ति है। लेकिन आज भी, प्रकृति के इस वरदान को हमारा समाज एक अभिशाप मानता है। महिलाएं ‘महीने के उस समय’, आंतरिक और सामाजिक रूप से संघर्ष का सामना करती हैं। हमारे समाज में मासिक धर्म चक्र हमेशा से ही चुप रहने वाला विषय रहा है, लेकिन अब समय है इसके मिथकों और तथ्यों का पता लगाने का कि क्या सच है और क्या जूठ।

मिथक # 1 पीरियड्स अशुद्ध होते हैं:

मिथक:

मासिक धर्म के दौरान हमारे समाज में एक महिला को ‘अशुद्ध’ माना जाता है। उसे खाना पकाने और पवित्र स्थानों पर जाने, यहां तक ​​​​कि किसी भी चीज़ या किसी को छूने पर भी प्रतिबंध लगा दिया जाता है। कुछ रिवाजों की माने तो महिलाओं को अलग बिस्तरों या कमरों में सोने के लिए दबाव दिया जाता है।

तथ्य:

यह वैदिक काल की बात जब, इंद्र द्वारा वृत्र का वध किया गया था तो महिलाओं ने इंद्र के अपराध का एक हिस्सा अपने ऊपर ले लिया था और यह अवधि वह अपराध है जो हर महीने प्रकट होता है। लेकिन सच इससे कोसों परे है, पीरियड्स का इंद्र या किसी की हत्या से कोई संबंध नहीं है, दरअसल हमारा गर्भाशय हर महीने ओव्यूलेशन के माध्यम से खुद को तैयार करता है। जिसके चलते महिलाओं को पीरियड्स आते हैं।  

मिथक #2 सैनिटरी पैड को छिपाने की जरूरत:

मिथक:

वैसे यह तो हम सब जानते हैं। जब आप कोई सैनिटरी उत्पाद खरीदते हैं, तो आप उसे हमेशा अखबार या काले पॉलिथीन बैग में लपेट कर ही छोड़ देते हैं।

तथ्य:

मासिक धर्म कप, पैड और टैम्पोन जैसे स्वच्छता उत्पाद किसी भी अन्य स्वच्छता उत्पाद की तरह ही हैं और महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए आवश्यक हैं कि ये उत्पाद बैंड-एड्स की तरह हैं जिनका उपयोग आप अपने मासिक धर्म के रक्त के दाग होने से रोकने के लिए करती हैं। अब क्या आपको बैंड-एड्स खरीदने में शर्म आएगी? ठीक ऐसा ही सैनिटरी उत्पादों के लिए भी है।

मिथक #3 इस प्रकार का खून गंदा होता है:

मिथक:

मासिक धर्म के खून को गंदा माना जाता है और हमारे शरीर में पाए जाने वाले किसी अन्य खून से अलग माना जाता है।

तथ्य:

यह धारणा ज्यादातर इस तथ्य पर आधारित है कि शरीर इस रक्त को छोड़ रहा है क्योंकि यह गंदा और अवांछित है। हालांकि मासिक धर्म का रक्त आपकी नसों से अलग होता है, लेकिन वह दूषित नहीं होता। यह रक्त ऊतक, बलगम की परत, बैक्टीरिया और कुछ रक्त की संरचना की तरह होता है।

मिथक #4 पौधों को पानी न दें:

मिथक:

मासिक धर्म वाली महिलाओं को पौधों को पानी देने की अनुमति नहीं है और माना जाता है कि पौधे अपनी ‘पवित्रता’ खो सकते हैं या मर भी सकते हैं।

तथ्य:

इसका समर्थन करने के लिए शून्य वैज्ञानिक तथ्य हैं। इसलिए, यदि आप एक प्लांट मॉम हैं, तो अपने बच्चों को समय पर दूध पिलाने से न डरें।

मिथक #5 व्यायाम या किसी भी शारीरिक कठिनाई को ना कहें:

मिथक:

पीरियड्स के दौरान एक्सरसाइज करना हानिकारक माना जाता है। यह माना जाता है कि कोई भी शारीरिक श्रम कष्टार्तव को बढ़ावा देगा, जो कि काफी  दर्दनाक होता है।

तथ्य:

जबकि हकीकत में यह बिल्कुल विपरीत है। यह चिकित्सकीय रूप से समीक्षा की गई है कि व्यायाम ऐंठन और सूजन से राहत दिलाने में मदद करता है। यह सेरोटोनिन को रिलीज करने में भी मदद करता है जो आपके मूड को नियंत्रण में रखेगा।
पीरियड्स वैसे ही स्वाभाविक हैं जैसे आपकी नसों से खून बहता है। तो, कृपया अपने भीतर की देवी पर कृपा करें, और महीने के उस समय में भी अपना जीवन जीते रहें।

और भी पढ़े हिंदी में –

-खतरनाक जीका वायरस के बारे में जानिए क्यों यह वायरस घातक है.
-क्या आप ऑटोकैड के बारे में जानते है?(Do you know about AutoCAD)
-भारत में शीर्ष 10 सबसे कठिन परीक्षा(Top 10 toughest examination in India)
-योग क्या है, इसके लाभ, प्रकार और नियम (What is yoga, its benefits, types and rules?)
-अंगूर के कुछ रहस्यमई लाभ जो आपके स्वास्थ को अच्छा बना सकता है.

Leave a Comment

istanbul diyetisyen -

seo ajansı

- mersin escort