Health Health & Fitness

आपके बच्चे की त्वचा पर चकत्ते? इस मानसून में इनसे निपटने के लिए 7 टिप्स

मानसून बच्चों में संक्रमण, एलर्जी और त्वचा पर चकत्ते ला सकता है। इसलिए यदि आपका बच्चा इस तरह की समस्याओं की चपेट में है, तो इन 7 युक्तियों को आजमाएं।

जब तक दाने संक्रामक न हो जाएं, गर्मी के चकत्ते कुछ दिनों में अपने आप गायब हो जाते हैं। हालांकि कुछ संक्रमण मानसून की गर्म और humid condition में पनप सकते हैं। इसलिए इस जलवायु में शिशु की त्वचा पर चकत्ते काफी प्रचलित हैं। चकत्ते अक्सर त्वचा की परतों पर और माथे, गाल, गर्दन, ऊपरी छाती, क्रॉच आदि क्षेत्रों में विकसित होते हैं।

बच्चे छोटे होते हैं और उनकी त्वचा नाजुक होती है। इसके कारण उन्हें अतिरिक्त देखभाल और ध्यान देने की आवश्यकता होती है। अपने शिशुओं को इस पूरे मौसम में सुरक्षित रखने के लिए उन्हें ठंडी,आरामदायक और पसीने से मुक्त जगह पर रखें। हालांकि अगर आपके बच्चे को त्वचा पर चकत्ते पड़ना शुरू हो गए हैं, तो उनसे निपटने का तरीका यहां बताया गया है

यहाँ शिशुओं में त्वचा पर चकत्ते के 3 कारण हैं, खासकर मानसून के दौरान।

हीट रैश

जब पसीने की ग्रंथियों के छिद्र बंद हो जाते हैं तो शिशुओं में गर्मी के दाने दिखाई देते हैं। यह ज्यादातर मानसून में गर्म या आर्द्र मौसम के दौरान होता है। इस प्रकार, गर्दन, छाती और पीठ के ऊपरी हिस्से पर छोटे, गुलाबी रंग के धब्बे दिखाई देते हैं।
अपने बच्चे को गर्मी से बचाने की कोशिश करें।

नैपी रैश

यदि आप बच्चे के डायपर को बदलने में विफल रहते हैं और वह बहुत देर तक गीला रहता है, तो बच्चे को नैपी रैश हो जाएगा। यह तब होता है जब बच्चे के नीचे की त्वचा में जलन होती है।

मवाद में उबाल आना

स्टैफ बैक्टीरिया द्वारा बालों के रोम के संक्रमण के कारण मवाद के फोड़े दिखाई देते हैं। जब बैक्टीरिया त्वचा को संक्रमित करते हैं, तो शरीर इससे लड़ने के लिए श्वेत रक्त कोशिकाओं को भेजकर प्रतिक्रिया करता है। डेड बैक्टीरिया, त्वचा और सफेद रक्त कोशिकाओं का निर्माण होता है और मवाद बनता है। मवाद का फोड़ा एक छोटे, सूजे हुए, लाल धब्बे जैसा दिखता है और दर्दनाक होता है।

शिशुओं में त्वचा पर चकत्ते से कैसे निपटें?

ठंडा तापमान बनाए रखें

जैसा कि हम जानते है की मानसून तापमान को नीचे लाता है, उच्च ह्यूमिडिटी का लेवल आपके बच्चे को पसीने का कारण बन सकता है। शिशु को ठंडे कमरे में रखें। इसके अलावा, यह सुनिश्चित करने का प्रयास करें कि आपका शिशु अच्छी तरह से हाइड्रेटेड है।

बच्चे को नहलाने के लिए गर्म पानी का इस्तेमाल न करें

अपने बच्चे को गर्म पानी से न नहलाएं क्योंकि ऐसा करने से त्वचा रूखी हो सकती है। इसके बजाय अपने बच्चे को नहलाने के लिए गुनगुने पानी का उपयोग करें। नहाने के लिए जैतून के तेल या बादाम के तेल के साथ हल्का बेबी सोप चुनें। यह बच्चे की त्वचा को मॉइस्चराइज़ करेगा और सूखापन को रोकेगा।

सिंथेटिक कपड़ों से बचें

मानसून के मौसम में शिशुओं को रैशेज होने का खतरा अधिक होता है अर्थात यदि रैशेज चेहरे सहित शरीर के अन्य हिस्सों तक फैलते हैं, तो पॉलिएस्टर और नायलॉन से दूर रहें, जो गर्मी को पकड़ते हैं और त्वचा को परेशान करते हैं। सूती कपड़े एक उत्कृष्ट विकल्प हो सकते हैं क्योंकि यह त्वचा पर कोमल होते हैं। सुनिश्चित करें कि बच्चे के कपड़े पूरी तरह से सूखे और साफ दोनों हों।

साफ करने के लिए सूती कपड़ों का प्रयोग करें

मानसून के दौरान बच्चे की त्वचा बहुत संवेदनशील होती है और उसे थोड़ी अधिक देखभाल की आवश्यकता होती है। उन्हें सूती कपड़े पहनने के अलावा उनके चेहरे और शरीर को साफ करने के लिए सूती कपड़ों का इस्तेमाल करें। जितना हो सके उसे नैपी-फ्री समय देने की कोशिश करें।

मॉइस्चराइजर का प्रयोग करें

अत्यधिक गर्मी और नमी में त्वचा शुष्क और परतदार हो जाती है। इससे बचने के लिए मॉइश्चराइजर का इस्तेमाल करें। स्नान के बाद, उन्हें एक मुलायम तौलिये से थपथपाकर सुखाएं। बेबी वॉश, तेल, क्रीम, लोशन और मॉइस्चराइजर का ही इस्तेमाल करें। मानसून के दौरान आपके बच्चे की त्वचा पर अधिक ध्यान देने की आवश्यकता होती है!

स्वस्थ आहार का पालन करें

पूरे मानसून के मौसम में अपने बच्चों के लिए संतुलित आहार बनाए रखना महत्वपूर्ण है। अपने बच्चों के दैनिक आहार में ताजे फल और सब्जियां शामिल करें ताकि वे स्वस्थ और ऊर्जावान बने रहें। एक स्वस्थ आहार भी स्वस्थ त्वचा का समर्थन करता है!

Note:

मैं आशा करता हूँ की आपको ये आर्टिकल बहुत अच्छा लगा होगा लेकिन ध्यान रहे की आपको कोई उपचार उपयोग में लेने से पहले वैद या डॉक्टर की सलाह लेना जरुरी है।

और भी पढ़े हिंदी में –

-Home Remedies For Liver: लीवर को स्वस्थ रखने के घरेलू उपाय
-केले में क्या पोषक तत्व पाए जाते है जो वजन को कम करने में सहायक होते है?
-तुलसी को पानी मिलाकर पीने से सारे रोग दूर हो जाएंगे।
-खतरनाक जीका वायरस के बारे में जानिए क्यों यह वायरस घातक है.
-क्या आप ऑटोकैड के बारे में जानते है?(Do you know about AutoCAD)
-भारत में शीर्ष 10 सबसे कठिन परीक्षा(Top 10 toughest examination in India)
-योग क्या है, इसके लाभ, प्रकार और नियम (What is yoga, its benefits, types and rules?)
-अंगूर के कुछ रहस्यमई लाभ जो आपके स्वास्थ को अच्छा बना सकता है.

Related posts

Benefits of Tulsi : तुलसी के गर्म पानी से गरारे करने के अनोखे फायदे.

Amit Yadav

ठंडी के मौसम में लोगो को bronchitis जैसे बीमारियां होने से बचाएं

Neha Kumari

होठों का कालापन दूर करे(blackness of the lips)

Amit Yadav

Leave a Comment